पेडीक्योर करवाते करवाते मसाज वाले से अपनी चूत का मेनिक्योर करवाया – Bhabhi ki Chudai

Bhabhi ki chudai

देसी भाभी पोर्न स्टोरी में एक भाभी को अपने पति से पूरा चुदाई सुख नहीं मिल रहा था. तो जैसे ही मौक़ा मिला, उसने गैर लंड को अपनी चूत में ले लिया.

मेरा नाम जागृति है और मैं 28 साल की हूँ.

यह मेरी पहली सेक्स कहानी है.

हालांकि मैंने कई कहानियां लिखी हैं … पर किसी न किसी संकोच की वजह से कभी पोस्ट नहीं की.

पहले मैं खुद के बारे में बता दूँ.

मैं काफी हॉट दिखती हूँ.

लोग मुझे पसंद करते हैं, पर मैं कोई हूर की परी नहीं हूँ.

मैं झूठ बोलकर अपनी कहानी को नकली नहीं बनाना चाहती हूँ.

इस देसी भाभी पोर्न स्टोरी में मैं सब सच लिखने की कोशिश करूँगी.

मैं एक आम लड़की हूँ, बस मेरे ‘आम’ किसी आम लड़की जैसे नहीं हैं.

वे बहुत ही ख़ास हैं!

मैं बड़े गर्व से बताना चाहूँगी कि मेरी ब्रा का साइज़ 36 है.

अगर आपको ब्रा की साइज़ का ज़रा भी अंदाज़ा होगा तो आप समझ चुके होंगे कि मेरे ‘आम’ किसी बड़े खरबूजों से कम नहीं हैं.

अब मैं अपनी निजी जिंदगी के बारे में भी कुछ बता देती हूँ.

मेरी शादी हुए कुछ साल हो गए हैं और मेरे पति काफ़ी बोरिंग इंसान हैं.

उन पर लानत है कि मेरी जैसी लड़की को शादीशुदा होते हुए भी अपनी प्यास बुझाने के लिए यहां वहां जाना पड़ता है.

वैसे तो मेरी रंगरेलियों के कई किस्से हैं.

मैं आपके साथ धीरे धीरे सब शेयर करूँगी.

पर यह एक किस्सा जो आज बता रही हूँ, वह बड़ा ही रोमांटिक हैं और कामुक कर देने वाला वाकिया है.

एक बार मैंने ब्यूटी सैलून की होम सर्विस देने वाले को ऑनलाइन बुक किया था.

मैंने सोचा था कि लड़की आएगी.

पर एक लड़का आ गया.

शुरू में थोड़ा अजीब सा लगा, पर फिर मैंने सोचा कि कई बार यूनिसेक्स सैलून में जाती हूँ तो उधर लड़के ही बेसिक ब्यूटी सर्विसेज देते हैं.

तो अजीब लगने की कोई बात नहीं लगी.

फिर मुझे सिर्फ़ पैडीक्योर और मैनीक्योर ही करवाना था.

मेरे घर पर सिर्फ़ मैं, मेरे पति और मेरे ससुर ही रहते हैं.

उस वक़्त मेरे पति ऑफिस गए हुए थे और मेरे ससुर ड्राइंग एरिया में टीवी देख रहे थे.

अब क्योंकि मुझे ब्यूटी सर्विसेज लेनी थी तो ज़ाहिर था कि उसे मैं अपने रूम में ही ले जाकर सेवा लूँगी.

हमारा घर एक ड्यूप्लेक्स है और मेरा रूम ऊपर की मंजिल में है.

नीचे ड्राइंग एरिया है और मेरे ससुर का कमरा है.

मैं उस लड़के को अपने कमरे में ले गयी.

मेरे ससुर अच्छी पोस्ट से रिटायर्ड हैं और काफ़ी खुले ख्यालों के हैं.

तो उनकी तरफ से कोई प्राब्लम नहीं थी.

मैंने अपने कमरे का दरवाज़ा बंद नहीं किया क्योंकि किसी के आने की कोई उम्मीद थी ही नहीं.

उसने अपना नाम आकाश बताया और सैटअप करना शुरू किया.

वह सामान निकाल रहा था और मैं उसकी तरफ देख नहीं रही थी.

पर मेरा ध्यान उसी की तरफ था क्योंकि काफ़ी अच्छी कद-काठी का था.

मेरे बेडरूम में एक अंजान आदमी का इस तरह होना, वह भी जब मेरे ससुर घर पर थे, मेरे लिए थोड़ा असहज कर देने वाला था.

मैं एक लड़की ब्यूटीशियन के आने की उम्मीद कर रही थी तो मैंने एक आरामदायक वन पीस पहना हुआ था.

इस वन पीस की स्लीव्स बहुत ही छोटी और ढीली थीं ताकि मैनीक्योर के बाद पूरे हाथ पर अच्छे से मसाज ले पाऊं.

साथ ही पैडीक्योर में भी आराम से घुटनों तक मसाज हो जाए.

उस लड़के ने सैटअप जमाया और मुझसे पूछा- मैम, शुरू करें?

मैंने कहा- हां श्योर!

मैं बेड के किनारे पर बैठ गयी.

उसने फ्लोर पर पैडीक्योर मशीन लगा दी थी.

मेरे पैर उठा कर उसने मशीन में रख दिए और मशीन को चालू कर दिया.

तभी उसने अचानक से मेरा गाउन ऊपर उठाया और घुटनों से भी ऊपर कर दिया.

एक लड़के के हाथ यह सब करवाना मुझे काफ़ी अजीब महसूस हुआ
.
एकदम से नीचे वाले छेद में गुदगुदी सी होने लगी, पर मैंने सोचा कि यह तो उसका तो रोज़ का ही काम है, क्या शर्माना.

मैं अपनी जांघों को कसके एक दूसरे से चिपकाई हुई थी क्योंकि नीचे पैंटी पहन रखी थी, पैंट्स या ब्लूमर नहीं पहना था.

उसने मुझसे सहज रहने को कहा, पर मैं वैसे ही अपनी टांगों को छिपा कर बैठी रही.

उसने अचानक से मेरी एक टांग उठाई और अपने घुटने पर रख ली.

फिर मेरी टांग में क्रीम लगाने लगा.

अब इस तरह से करने से मेरी जांघें खुल चुकी थीं और मुझे पता था कि उसे मेरी पैंटी दिख रही थी.

यह सोच कर ही मैं थोड़ी गीली होने लगी कि एक आदमी मेरे बेडरूम में मेरी टांग पकड़ कर बैठा है और मेरी पैंटी भी देख पा रहा है.

इतने में उसने दूसरी टांग उठाई और उस पर क्रीम लगा कर दोनों टांगें विपरीत दिशा में फैला कर पैडीक्योर टब के दोनों तरफ रख दीं.

मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि वह मेरी टांगें फैला कर ऑलमोस्ट उनके बीच में बैठा है और मेरी चड्डी देख रहा है.

शायद मेरी चूत को सूंघ भी रहा है और मैं चुपचाप बैठी हूँ.

उसकी हरकतें मुझे अब कुछ ठीक नहीं लग रही थीं.

ऐसा लग रहा था कि उसके दिमाग़ में कुछ चल रहा है.

पर मुझे न जाने क्यों … यह सब कुछ थोड़ा अच्छा भी लग रहा था.

तभी उसने मुझसे पूछा- फुल बॉडी मसाज, फुल बॉडी वैक्सिंग के पैकेज पर काफ़ी डिस्काउंट चल रहा है, आप लेंगी मैम?

यह सुन कर जैसे मैं सुन्न सी हो गयी, मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या बोलूं.

तभी उसने एक ऐसी बात कही कि मेरी आँखों के आगे अंधेरा सा छा गया.

‘बिकिनी वैक्स भी फुल बॉडी में इंक्लूडेड है!’

यह सुन कर मुझे लगा कि मैं कहां छुप जाऊं.

मेरी चूत पर काफ़ी घने बाल थे क्योंकि मैंने बहुत दिनों से हेयर रिमूवल नहीं किया था.

पति के साथ चुदाई किए हुए भी दो महीने हो चुके थे.

शायद मेरी पैंटी लाइन से उसने वह बाल देख लिए थे और तभी वह यह कह रहा था.

मैंने एकदम से उससे कह दिया- नहीं, मैं ऐसी सर्विसेज घर पर नहीं ले सकती … क्योंकि मेरे ससुर घर पर हैं.

यह कहने के बाद मुझे लगा कि यह क्या कह दिया मैंने … मैं सीधा मना भी कर सकती थी.

पर मैंने ऐसे कहा, जैसे मुझे उससे कुछ भी करवाने में आपत्ति नहीं होती … अगर मैं घर पर अकेली होती.

उसने कुछ नहीं कहा और बहुत कामुक तरह से मुझे छूते हुए मेरा पैडीक्योर करता रहा.

ऐसा लग रहा था कि वह मुझे उत्तेजित करने की कोशिश कर रहा हो.

मैं हो भी रही थी.

ऊपर से वह बार बार मेरी पैंटी की तरफ भी देख रहा था.

मुझे महसूस हो रहा था कि मैं गीली हो रही हूँ, पर मैं चुपचाप अपने मोबाइल में देखती रही.

उसने पैडीक्योर पूरा किया बस मसाज होना बाकी था.

तभी उसने मैनीक्योर शुरू किया और पहले मेरे एक कंधे की मसाज करने लगा.

यह अजीब था क्योंकि अक्सर मैनीक्योर के बाद मसाज होती है.

पर उसने पहले शुरू कर दी थी.

वह मेरी कोहनियों से ऊपर मेरे कंधों तक आता … फिर अपनी उंगलियां मेरी स्लीव्स के अन्दर तक ले जाता.

फिर मेरी गर्दन पर मसाज करता और अपना हाथ लगभग मेरी छाती तक ले जाता.

ऐसे लग रहा था जैसे वह मुझसे आज्ञा माँग रहा हो कि उसे मम्मे छूने की पर्मिशन दे दी जाए.

मैं चुपचाप मोबाइल ही देख रही थी कि तभी नीचे से आवाज़ आई- जागृति, घर का दरवाज़ा बंद कर लो, मैं स्टेशन जा रहा हूँ.

मुझे याद आया कि मेरे ससुर के दोस्त आज कहीं जाने वाले थे और वह उन्हें ड्रॉप करने जा रहे थे.

यह सुन कर जैसे उस लड़के के हाथों में एक अलग ही जोश आ गया.

इस बार मेरी छाती के और अन्दर हाथ ले जाते हुए उसने धीरे से मेरे कान में कहा- दरवाजा बंद करके आ जाइए, मैम!

उसकी गर्म सांसें जैसे मुझसे कह रही थीं कि वह मेरा पूरा बदन टटोलना चाहता है.

मैं चुपचाप गेट बंद करके आ गयी.

मेरी सांसें अब काफ़ी तेज़ थीं और उसने यह बात नोटिस कर ली थी.

उसने कहा- मेम फुल बॉडी वैक्सिंग ले लो … मैं मसाज कॉंप्लिमेंटरी दे दूँगा.

इस बार उसने मेरे मम्मे छू लिए थे.

बस वह मेरी चूचियों के निप्पल तक नहीं पहुंच पाया था.

मैंने फिटिंग की ब्रा पहनी थी, तो वह मेरे एक दूध की ऊपरी चमड़ी को सहला कर वापस आ गया था.

मेरी चूत अब पहले से फड़फड़ा रही थी.

मैं दिमाग़ से नहीं, अब चूत से ही सोच रही थी.

अंतत: मैंने कह दिया- ठीक है कर दो वैक्सिंग!

यह सुन कर उसने मुझे ब्रा उतरने को कहा ताकि वह अच्छी तरह मसाज दे पाए.

असल में वह मुझे गर्म कर रहा था.

मैंने ब्रा का हुक खोल दिया और ब्रा को ढीली करके चूचों से नीचे कर दी.

उस गैर मर्द ने पहली बार मेरी चूचियों पर अपनी उंगलियां फिराईं.

‘आह … मज़ा आ गया … बिल्कुल कड़क हो चुकी थीं.’

Bhabhi ki chudai

पति की गैरमोजूदगी में सेक्स स्टोरी राइटर के साथ सुहागरात मनाई – First Time Sex

बस ऐसा लग रहा था कि मेरी चूचियां वन पीस फाड़ कर बाहर निकल जाएंगी.

मैं चाहती थी कि वह अपने मुँह में लेकर इनको अब चूस ले.

उसने जैसे मेरे दिल की बात सुन ली, उसने मेरे सामने के बटन्स खोल दिए और मुझे शीशे के सामने बैठने को कहा.

शीशे के सामने लाकर उसने कहा- मसाज का आनन्द लेना है तो शरीर को ढीला छोड़ दो और सब खोल दो.

उसके मेरे दोनों दूध सहज भाव से खींच कर बाहर निकाले और उन्हें देख कर हैरान हो गया.

बहुत मुश्क़िल से मेरे पूरे मम्मे बाहर आ पाए थे, दरअसल मेरे ऐसे लग रहे थे मानो दूध फँस गए हों.

इतने बड़े दूध उसने पहले असलियत में देखे नहीं होंगे.

उस पर मेरे निपल्स भी बहुत बड़े बड़े हैं. कड़क होकर जामुन से कम छोटे नहीं लगते हैं.

उसके मुँह से सच में पानी टपकने लगा, पर वह अभी भी ब्यूटीशियन का चोला पहले हुए था.

वह कहने लगा- बाहर से हमेशा पता नहीं चलता कि थैले के अन्दर कितना बड़ा फल है.

मैंने कुछ नहीं कहा.

पर वह शायद मुझे हंसाना चाहता था.

उसने कहा- मैं पहले नीचे की वैक्सिंग कर देता हूँ.

वह फिर से मेरी टांगें फैला कर मेरी पैंटी के बहुत करीब आकर बैठ गया और जोर जोर से सूंघने लगा.

जब तक वैक्स गर्म हो रहा था, उसने मेरी पैंटी बहुत प्यार से उतारी.

उस पर लगे मेरे पानी को देखा और कहा- बहुत सुंदर पैंटी है लेकिन अन्दर की चीज़ इससे भी सुंदर है.

मैं शर्मा गयी और नीचे देखने लगी.

उसने कहा- शीशे में देखती रहिए कि मैं क्या कर रहा हूँ, बाद में शिकायत ना हो.

मुझे दिखा दिखा कर उसके मेरी गीली चूत एक वेट वाइप से पौंछ दी और फ़ुद्दी के ऊपर टिश्यू लगा दिया.

फिर उसने वैक्स लिया और मेरे नीचे लेफ्ट साइड अच्छे से वैक्स लगा दिया.

जब वह वैक्स पर कपड़ा लगा रहा था, मुझे घबराहट हो रही थी क्योंकि मैंने इससे पहले कभी वहां पर वैक्स नहीं करवाई थी.

उसने मुझसे आश्वासन दिया और कहा- कुछ नहीं होगा, आपकी झांटों की सफाई अब मेरी ज़िम्मेदारी है.

यह कर उसने एक झटके से कपड़ा खींच दिया.

मैं जैसे ही दर्द से चिल्लाने वाली थी, उसने अपना मुँह मेरी चूत पर रख दिया और चाटने लगा.

मुझे झांटों के खिंचने से दर्द तो हो रहा था पर उसके चाटने से मुझे इतना सुकून मिला जैसे सालों से सूखी धरती पर बारिश आ गयी हो.

मैंने अपनी दोनों टांगें और ज्यादा फैला दीं और उसे उसके मन की करने दी.

उसने मेरी चूत को चाट चाट कर मुझे ठंडक दे दी और जैसे एक साइड में झांटों के साथ किया था.

वैसे ही उसने दूसरी तरफ भी वैक्स करके झांटें खींच कर चूत चिकनी कर दी और पुन: चाटने लगा.

शायद ही कभी किसी ने मेरी इतनी अच्छी चूत चाटी थी.

दर्द कब गायब हुआ और मज़ा आने लगा … कुछ पता ही नहीं चला.

उसके चाटने से मैं और गीली होने लगी और अब वह मेरी फ़ुद्दी भी चाट रहा था.

मैं कामुक आवाज़ें निकालने लगी थी.

वह बार बार मेरा ध्यान शीशे की तरफ ले जाता ताकि मैं देख पाऊं कि वह क्या कर रहा है.

शीशे में अपनी चूत के साथ सब होता देख कर मैं और भी ज़्यादा गर्म होती गयी.

उसने अपनी जीभ मेरी चूत में डाल डाल कर मुझे गर्म कर दिया.

जैसे वह मेरी चूत को अपने मुँह से ही चोदने की कोशिश कर रहा था.

वह कुछ देर रुक कर मेरी आंखों में देखने लगा और फिर से चूत चाटने लगा.

इस बार उसने धीरे से एक उंगली भी मेरी चूत के अन्दर घुसेड़ दी और दाने को मसलने लगा.

मैं महीनों से नहीं चुदी थी और यह सब मुझे इतना मज़ा दे रहा था कि मुझे कोई याद ही नहीं रहा था कि मैं शादीशुदा हूँ और अपने बेडरूम में एक अंजान मर्द से अपनी चूत चटवा रही हूँ.

अब मैं कराह रही थी- आह आह आकाश … रूको मत प्लीज करते रहो.

मैं तो अब उसके साथ जैसे Mumbai Escort लड़की बन चुकी थी.

वो मेरे साथ जो भी कर रहा था मैं उसे एन्जॉय कर रही थी.

उसने ऐसे ही मेरी फ़ुद्दी चाट-चाट कर एक बार मुझे चरम सुख का आनन्द दे दिया.

मैं झड़ गयी और मेरा शरीर ढीला पड़ने लगा.

तभी वह खड़ा हो गया और वापस मेरे पीछे खड़ा होकर मुझे मसाज देने लगा.

अब वह बहुत अच्छी तरह मेरे मम्मे दबा रहा था.

जैसे कोई आम को चूसने से पहले पिलपिला करता है, ठीक वैसे ही वह मेरे दूध मसल रहा था.

मैं मज़े ले रही थी, अपने दूध मसलवाती हुई शीशे में देख रही थी.

वह मेरी चूचियां ऐसे भींच रहा था जैसे उनमें से दूध निकालने की कोशिश कर रहा हो.

उसने मेरे दूध दबा-दबा कर खूब मज़े लिए और मुझे दिए भी.

फिर सामने आकर बैठ गया और मेरे एक दूध को चूसने लगा.

वह मेरे मम्मों पर ऐसे टूट पड़ा था, जैसे कोई भूखा बछड़ा अपनी गाय के थन पर टूट पड़ता है.

उसने हाथों से दबा दबा कर जो मेरी चूचियां चूसी, उससे मैं निहाल हो गई.

पहले एक-एक, फिर दोनों को मिला कर एक साथ चूसीं.

ऐसा लग रहा था कि वह सारा रस पीकर इनको चूसे हुए आम की तरह लटका देगा.

उसने मेरी चूचियां ऐसी लाल की कि कई दिनों तक मुझे उन पर क्रीम लगानी पड़ी.

आख़िर में उसने कहा- हाथ और मुँह से बहुत मसाज दे दी, अब मैं अपना ख़ास यंत्र निकालता हूँ, उससे मैं तुम्हारा बचा हुआ रस निकालूँगा.

वह बेदर्दी मुझे एक भूखी रांड समझ कर अपनी सभ्यता भूल कर तुम तुम्हारी करने लगा था.

सच तो यह है कि बॉस बन कर चूत चुदवाने से ज्यादा मजा एक दासी बन कर चुदवाने में आता है.

चुदाई के वक्त जब मर्द औरत को गाली देकर चोदता है और उसे कुचलता है तभी तृप्ति मिलती है … कम से कम मेरे साथ तो ऐसा ही है.

उसने मुझे खड़ा कर दिया और आगे की तरफ झुका दिया.

फिर अपनी जीन्स की ज़िप खोली और अपने तने हुए फड़फड़ाते लंड को बाहर निकाला.

मैं घूम कर लंड देखा तो लगा कि आज मेरी चूत की खैर नहीं.

फिर उसने मुझे पकड़ कर मेरी चूत में पीछे से अपना लंड पेला तो मेरी आह निकल गई.

उसने एक बार भी मेरी आह कराह पर ध्यान नहीं दिया और वह किसी मदांध सांड की तरह चूत फाड़ता चला गया.

बड़ी लंबी रेस का घोड़ा था वह … देसी भाभी पोर्न चुदाई करते हुए करीब चालीस मिनट के बाद उसने अपना पानी मेरी ड्रेसिंग टेबल पर छोड़ा.

इन 40 मिनट में उसने मुझे झटके मार मार कर मेरे हिलते हुए दूध दिखा दिखा कर और खुद देख कर जो तोड़ा है.

उससे मेरी महीनों की सेक्स की प्यास बुझ गई थी.

उसने मेरे बदन का हर एक हिस्सा खोल दिया था.

खड़ा करके, घोड़ी बना कर, कुतिया बना कर … ऐसे अलग अलग आसनों में मेरी गांड पर थप्पड़ मार मार कर और मेरे दूध दबा दबा कर मेरे ही बेडरूम में मुझे चोदा.

उसने उस दिन ड्रेसिंग टेबल पर ही मुझे घोड़ी बना कर मेरी चूत फाड़ दी, बहुत सारा पानी निकाला.

जो सुख मेरे पति ने सालों में नहीं दिया, वह उसने अपनी कुछ घंटों की सर्विस में मुझे दे दिया.

इस घटना ने मेरी चूत की प्यास को जगा दिया था.

अब मेरी फुद्दी अकेली और सूखी नहीं रह सकती थी.

चुदाई के बाद कुछ मिनट तक हम दोनों बेड पर पड़े आराम करते रहे.

फिर उसने एक पेन से मेरे एक दूध पर अपना नाम और दूसरे पर अपना नंबर लिख दिया.

मैं मुस्कुरा दी.

वह मुझे चूम कर वापस चला गया.

उसे मैंने वापस बुलाया या नहीं, यह मैं फिर कभी बताऊंगी, तब तक के लिए बाय … चुदाई करते और करवाते रहें.

मेरी देसी भाभी पोर्न स्टोरी कैसी लगी, प्लीज बताएं.

Recommended Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts Service